Monday, December 26, 2011

मिलने के लिए: यूरोस स्तेपनोव रोस


यूरोस स्तेपनोव रोस की एक कविता
(अनुवाद: अनुपमा पाठक)

मिलने के लिए
हमें एक दूसरे के पास से गुजरना होगा
अदृश्य पथ पार करने होंगे
हवा में चिन्ह अंकित करने होंगे
काले बर्फ में बनी राह पर चलना होगा

लेकिन, चिंता न करो
सबकुछ क्रमवत है यथावत अपने स्थान पर

हम यहाँ हैं
अन्य लोगों के सपने पूरे करने के लिए
जो हमारे पास नहीं है
वह है औरों के जीवन में.

för att mötas

för att mötas
måste vi gå förbi varandra
korsa den osynliga stigen
lämna avtryck i vinden
följa spår i den svarta snön

men, oroa er inte
allt är på sin plats

vi är här
för att uppfylla andras drömmar
det vi saknar
finns i andras liv.

-Uros Stepanov Ros

7 comments:

  1. आपका यह ब्लॉग भी बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  2. कल 27/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. ..........जो हमारे पास नहीं है
    वह है औरों के जीवन में.

    वाह!

    शायद, उन्हे भी एहसास हो इसका!

    ReplyDelete
  4. waah! kitni gahri baat kahi aap ne...

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन एहसास!!

    ReplyDelete
  6. सुन्दर भावानुवाद....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भाव्।

    ReplyDelete