Sunday, February 19, 2012

कल: हेनरी पर्लैंड

हेनरी पर्लैंड की एक और कविता
(अनुवाद: अनुपमा पाठक)

कल
जब मैं घर गया
अँधेरी सड़क से रात में,
चमका आसमान से
शब्द
जिसे मैंने बहुत पहले ही जला दिया था.
---------
क्या अब मुझे आसमान भी जला देना चाहिए?


I går

I går
då jag gick hem
längs en nattmörk väg,
lyste från himlen
ord
som jag bränt för länge sedan.
---------
Skall jag nu bränna även himlen?

-Henry Parland

1 comment:

  1. बहुत अच्छी कविता. आभार !!

    ReplyDelete