Saturday, February 4, 2012

छोटी सी सोमवारीय सांत्वना: स्तिग डगेर्मन

स्तिग डगेर्मन की एक कविता
(अनुवाद: अनुपमा पाठक)

एक
पूर्ण सेकेण्ड जीवन का
कई कशीदेकारी से मुक्त है.
एक बेनाम पंछी साबित करता है खुद को
अपने माथे के ठोसपन से.
एक सोच विस्फुटित होती है
आतिशबाजी प्रदर्शन के रूप में:
हमारा वातावरण शायद
निराश नहीं है - केवल हम हैं.


Liten måndagströst

En hel sekund i livet
är mången broder fri.
En nämnlös fågel styrker
hans panna tätt förbi.
En tanke exploderar
som ett fyrverkeri:
Vårt läge är kanhända
inte höpplost - bara vi.

-Stig Dagerman

2 comments: