Friday, June 29, 2012

सागर इतना गहरा है: एल्सा ग्रावे

एल्सा ग्रावे की एक और कविता
(अनुवाद: अनुपमा पाठक) 



सागर इतना गहरा है
पर्याप्त गहरा कि उससे सब कर सकते हैं प्यार,
वे सभी जो करते हैं प्यार डूबते सूरज से,
ओझल होती हुई नाव से
और उस स्वप्न से जो डूब गया
गहरे दिन के प्रकाश में

सागर इतना बड़ा है
पर्याप्त बड़ा कि उससे सब कर सकते हैं प्यार,
वे सभी जो करते हैं प्यार दूरस्थ, अजनबी सागर से
एक गरजते तूफ़ान से
और उस श्वेत पंछी से जो उड़ गया था
मगर वापस लौटा रक्ताभ पंखों के साथ,

सागर
इतना बड़ा है
इतना बड़ा
कि दो लोग जो प्यार करते हों
एक ही सागर से
भूल सकते हैं एक दूसरे को.

Havet är så djupt

Havet är så djupt
djupt nog att älskas av alla,
alla som älskar en sjunkande sol,
ett försvinnande segel
och drömmen som sjönk
djupt under dagens ljus

havet är så stort
stort nog att älskas av alla,
alla som älskar ett fjärran, främmande hav
en vinande storm
och den vita fågeln som flög bort
men vände åter med blodröda vingar,

havet är så stort
så djupt
att två som älskade
samma hav
kunde glömma varandra.



-Elsa Grave

3 comments:

  1. bahut sundar...sach saagar aisaa hi hota hai

    ReplyDelete
  2. एक ही सागर में भूल सकना...
    शुक्रिया इसे पढ़वाने के लिए!!

    ReplyDelete