Saturday, June 30, 2012

किविक के गिरिजाघर: स्तिग योहानसन

स्तिग योहानसन की एक कविता
(अनुवाद: अनुपमा पाठक) 


ईश्वर ने रचे सेब के बौर
कि मधुमक्खियों के जीवन को मिल सके अर्थ
और विश्राम स्थल के रूप में
               आँखों की ख़ुशी के लिए
रचे गए वे.

इसलिए ऐसे प्रत्येक पुष्प में
                           है एक
गिरिजाघर भी,
और कोई भी जो इनमें से किसी एक तक भी जाता है 
                      मात्र विचारों के धरातल पर ही सही
वह है अपने असल गृहक्षेत्र के सान्निध्य में ही.

Katedralerna i Kivik


Gud skapade äppelblom
för att binas liv skulle få mening
och som en plats att vila på
                         för vara ögons glädje.

Därför finns i varje sådan blomma
                                också en kyrka,
och den som besöker någon av dem
                          om så bara i tankarna
är nära sin verkliga hemtrakt.

-Stig Johansson

**Kivik is a locality situated in Simrishamn Municipality, Skåne County, Sweden

2 comments:

  1. मधुमक्खी के स्वर से गूंजती है नाद...
    गिरिजाघरों से आती घंटियों के आवाज़ सी...
    सुबह की अज़ान....
    जैसे फूल पढ़ती हो...
    और भोर में खिलती हो...
    नयी खुशियाँ रचते...!!

    ReplyDelete