Wednesday, July 11, 2012

कौन एक बच्चा नहीं है: वर्नर अस्पेंसट्रोम

वर्नर अस्पेंसट्रोम की एक कविता
(अनुवाद: अनुपमा पाठक)

एक दिन अपने जीवन के सत्तरवें वर्ष में
जब मैंने कोशिश की याद करने की कि कैसा अनुभव था
दुनिया में नवागंतुक होने का और स्वयं
ढूँढ़ना उसकी सात और सत्तर निविष्टियों को

तब मदद ली मैंने एक अवकाशप्राप्त प्रोफ़ेसर से,
सात भाषाओँ में दक्ष,
जो अश्रु पूर्ण नेत्रों से खड़ा था कक्ष में
और ढूंढ़ रहा था हाथ घुसाने की जगह कोट के आस्तीन में.

वह स्वयं करना चाहता था यह.

और हममें से कौन एक बच्चा नहीं है
और कौन नहीं है वह प्रोफ़ेसर?


Vem är ej ett barn

En dag i mitt sjuttionde levnadsår
då jag försökte erinra mig hur det kändes
att vara nykomling i världen och på egen hand
hitta dess sju och sjuttio ingångar.

fick jag hjälp av en professor emeritus,
herre över sju språk,
som gråtfärdig stod i tamburen
och letade efter handens infart i en rockärm.

Han ville själv.

Och vem av oss är ej ett barn
och vem är ej professor?

-Werner Aspenström

4 comments:

  1. सवाल ही जवाब है.
    अच्छी कविता... आभार!!

    ReplyDelete
  2. इस कविता ने वर्नर के बारे में जानने की उत्सुकता बढ़ा दी है।

    ReplyDelete